logo_banner
Breaking
  • ⁕ लालू यादव के तंज पर भाजपा नेताओं ने दिया उत्तर, अपने बायो में लिखा ‘मोदी का परिवार’ ⁕
  • ⁕ गडकरी को लेकर उद्धव का भाजपा पर हमला, कहा- निष्ठावान कार्यकर्ता को छोड़ अचूक संपत्ति जमा करने वाले का नाम किया घोषित ⁕
  • ⁕ Chandrapur: तिहरे हत्याकांड से दहला नागभीड, पति ने पत्नी और दो बेटियों को उतारा मौत के घाट ⁕
  • ⁕ Akola: पत्नी ने की पति की हत्या, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार ⁕
  • ⁕ भाजपा में शामिल होंगी नवनीत राणा! सांसद बोली- सही समय पर होगा सही फैसला ⁕
  • ⁕ अमित शाह के दौरे पर विजय वडेट्टीवार का हमला, कहा- कार्यकर्ताओं का नहीं जनता का समर्थन मिलना चाहिए ⁕
  • ⁕ उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को जान से मारने की धमकी देने वाले किंचक नवले हुआ गिरफ्तार, अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेजा ⁕
  • ⁕ चंद्रपुर- नदी में खेखड़े पकड़ने गए तीन बच्चों की डूबने से मौत हुई ⁕
UCN News
UCN Entertainment
UCN INFO
Bhandara

जलवायु परिवर्तन के कारण धान की फसलें खराब, जिले की हजारों हेक्टेयर खेती पर बीमारी का खतरा


भंडारा: पर्यावरण में हो रहे बदलाव के कारण धान के पौधे में कीट लगने से किसान चिंतित हैं. रबी सीजन में धान की खेती शुरू हो गयी है, कीट के प्रकोप के कारण धान का पौधा पीला पड़ गया है और पौधे का विकास नहीं हो रहा है. 

खरीफ सीजन का उत्पादन घटा, प्रकृति के कारण भारी बारिश और बेमौसम बारिश से किसानों को काफी नुकसान हुआ. हालांकि, सरकार की ओर से बुनियादी धान खरीद केंद्र शुरू करने में देरी के कारण आधे से ज्यादा किसानों का धान खुले बाजार में कम कीमत पर बिक गया. सरकार द्वारा घोषित बोनस अभी तक किसानों तक नहीं पहुंचा है.

किसानों ने एक बार फिर नई उम्मीद की किरण के साथ खेती शुरू की कि रबी सीजन की खेती के लिए प्रकृति और सरकार उनका साथ देगी। रबी सीजन के लिए धान की रोपाई की गई थी, लेकिन प्रकृति में बदलाव के कारण कीट लगने से पौधे पीले होकर मुरझा रहे हैं।

आर्थिक स्थिति के कारण दवा के खर्च के कारण यह किसान एक बार फिर कर्ज में धकेला जा रहा है। इसलिए किसानों की मांग है कि बिजली सप्लाई प्रतिदिन दी जाए और कृषि विभाग को निर्देशित किया जाए।