logo_banner
Breaking
  • ⁕ लालू यादव के तंज पर भाजपा नेताओं ने दिया उत्तर, अपने बायो में लिखा ‘मोदी का परिवार’ ⁕
  • ⁕ गडकरी को लेकर उद्धव का भाजपा पर हमला, कहा- निष्ठावान कार्यकर्ता को छोड़ अचूक संपत्ति जमा करने वाले का नाम किया घोषित ⁕
  • ⁕ Chandrapur: तिहरे हत्याकांड से दहला नागभीड, पति ने पत्नी और दो बेटियों को उतारा मौत के घाट ⁕
  • ⁕ Akola: पत्नी ने की पति की हत्या, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार ⁕
  • ⁕ भाजपा में शामिल होंगी नवनीत राणा! सांसद बोली- सही समय पर होगा सही फैसला ⁕
  • ⁕ अमित शाह के दौरे पर विजय वडेट्टीवार का हमला, कहा- कार्यकर्ताओं का नहीं जनता का समर्थन मिलना चाहिए ⁕
  • ⁕ उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को जान से मारने की धमकी देने वाले किंचक नवले हुआ गिरफ्तार, अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेजा ⁕
  • ⁕ चंद्रपुर- नदी में खेखड़े पकड़ने गए तीन बच्चों की डूबने से मौत हुई ⁕
UCN News
UCN Entertainment
UCN INFO
Chandrapur

सुधाकर अंभोरे को लगा विधायक बनने चस्का, चंद्रपुर में बढ़ी गतिविधि


चंद्रपुर: अपने रिटायरमेंट से दो दिन पहले एक ट्रैवल एजेंसी के ड्राइवर की पिटाई कर विवादों में आए रिटायर थानेदार सुधाकर अंभोरे को अब विधायक बनने का चस्का लगा है. वाशिम जिले के रहने वाले अंभोरे को कुछ नेताओं ने अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित चंद्रपुर निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस से लड़ने के लिए 'गोली' दी है। इससे हाल ही में अंभोरे की चंद्रपुर शहर में गतिविधियां बढ़ी हैं. 

शराबबंदी के दौरान अंभोरे घुग्घुस के थानेदार थे. घुग्घुस से सटी हुई यवतमाल जिले की सीमा है. उस समय यह चर्चा होती थी कि इस जिले से घुग्घुस के माध्यम से चंद्रपुर में शराब की आपूर्ति की जाती है. तब राज्य में बीजेपी सत्ता में थी.

अंभोरे के भाजपा नेतृत्व के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध थे। इसके बाद उन्हें स्थानीय अपराध शाखा का प्रभार मिला। शराबबंदी की अवधि के दौरान उन्होंने चंद्रपुर पुलिस बल में एक महत्वपूर्ण पद संभाला। इसके बाद उनका तबादला कर दिया गया. अपनी सेवा के अंतिम दिनों में वह ब्रह्मपुरी पुलिस  थे. 

अपने रिटायरमेंट से दो दिन पहले उन्होंने एक टैवेल्स ड्राइवर की पिटाई कर दी. उस समय अंभोरे निजी वाहन में थे. माना जाता है कि यह वाहन वणी के एक मटका किंग के नाम पर है. मामले की जांच पूरी हो चुकी है. ब्रह्मपुरी उपविभागीय पुलिस अधिकारी दिनकर तोशारे ने कहा, रिपोर्ट वरिष्ठ अधिकारियों को भेज दी गई है. 

रिटायरमेंट के बाद अंभोरे की दिलचस्पी राजनीति में हो गई है. नागपुर अधिवेशन के दौरान उन्होंने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की थी. अब वे कांग्रेस के मंच पर भी नजर आने लगे हैं.

जिले में कुछ ऐसा नेता सक्रिय हैं जो चुनाव से पहले हर विधानसभा में चार से पांच लोगों विधायकी के सपने दिखाते हैं. उसके लिए आर्थिक रूप से मजबूत लोगों को ढूंढा जाता है। वे जितना हो सके अपनी जेबें भरते हैं और अंततः कांग्रेस पार्टी आलाकमान का निर्णय अंतिम होता है। 

जिले में कई लोगों को इसका अनुभव हुआ है. लेकिन हर बार यह शातिर गैंग एक नया बिडू तैयार कर लेता है. कई सालों से आज या कल विधानसभा का टिकट पाने की उम्मीद लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं को केवल घुमाया जा रहा है. अब अंभोरे की मौजूदगी यह से यह नेता टिकट की आस में पीछे घूम रहे नेता और भी परेशान हो गए हैं.